जिन्दगी में सब कुछ दुबारा मिल सकता है लेकिन वक्त के साथ खोया हुआ रिश्ता और भरोसा दोबारा नहीं मिलता..

विद्या से बड़ा कोई मित्र नहीं, बुरा वक्त आने पर चाहे सभी सगे संबंधी साथ छोड़ दे लेकिन एक विद्या ही है जो सदा आपके साथ चलती है..

हमेशा जोड़ने की कोशिश कीजिये, तोड़ने की नहीं.. संसार में सुई बनकर रहिये, कैंची बनकर नहीं.. सुई 2 को 1 कर देती है और कैंची 1 को 2 कर देती है..

समझदारी की बातें सिर्फ़ दो ही लोग करते है.. एक वो जिसकी उम्र अधिक हो और एक वो जिसने ब में बहुत कम उम्र में बुरा वक्त देखा हो..

गाड़ी में अगर ब्रेक ना हो तो दुर्घटना है.. जीवन में अगर संस्कार और मर्यादा ना हो तो पतन निश्चित है..

बदल जाओ वक्त के साथ या फिर वक्त बदलना सीखो मजबूरियों को मत कोसो हर हाल में चलना सीखो

उस इंसान से कभी  झूठ मत बोलिए जिसे आपके झूठ पर भी विश्वास हो

अहंकार में डूबे इंसान को ना तो खुद की गलतियां दिखाई देती है और ना दूसरों की अच्छी बात..

जो होता है अच्छे के लिए होता है भ ले ही अभी बुरा लग रहा है लेकिन आगे चलकर पता चल जाएगा की वह अच्छे के लिए हुआ

जिस रिश्ते में हमारी अहमियत खत्म हो चुकी हो, उसे चुपचाप छोड़ देना  ही बेहतर है..